कांतली नदी शेखावाटी – राजस्थान सामान्य ज्ञान

राजस्थान सामान्य ज्ञान-कांतली नदी शेखावाटी

उपनाम: कांटली
लम्बाई: 100 कि.मी
बहाव क्षेत्र: सीकर झुनझुनू
गणेश्वर सभ्यता का विकास

कांतली नदी शेखावाटी - राजस्थान सामान्य ज्ञान
कांतली नदी शेखावाटी – राजस्थान सामान्य ज्ञान

कांतली नदी :- शेखावाटी क्षेत्र की एकमात्र नदी कांतली नदी का उद्गम सीकर जिले में खण्डेला की पहाड़ियों से होता है। यह नदी झुन्झुनू जिले को दो भागों में बांटती है। सीकर जिले को इस नदी का बहाव क्षेत्र तोरावाटी कहलाता है। यह नदी 100 कि.मी. लम्बी है। और झुनझुनू व चुरू जिले की सीमा पर समाप्त हो जाती है।

लगभग 5000 वर्ष पूर्व सीकर जिले में इस नदी के तट पर गणेश्वर सभ्यता का विकास हुआ। जहां से मछली पकड़ने के 400 कांटे प्राप्त हुए है। इससे ज्ञात होता है। कि लगभग 5000 वर्ष पूर्व कांतली नदी में पर्याप्त मात्रा में पानी रहा होगा।

शेखावाटी क्षेत्र की एकमात्र नदी कांतली नदी का उद्गम सीकर जिले में खण्डेला की पहाडि़यों से होता है। यह नदी झुनझुनू जिले को दो भागों में बांटती है। सीकर जिले को इस नदी का बहाव क्षेत्र तोरावाटी कहलाता है। यह नदी 100 कि.मी. लम्बी है और झुनझुनू व चुरू जिले की सीमा पर समाप्त हो जाती है।

लगभग 5000 वर्ष पूर्व सीकर जिले मे इस नदी के तट पर गणेश्वर सभ्यता का विकास हुआ। जहां से मछ़ली पकडने के 400 कांटे प्राप्त हुए है। इससे ज्ञात होता है कि लगभग 5000 वर्ष पूर्व कांतली नदी में पर्याप्त मात्रा में पानी रहा होगा।

Leave a Comment