Category Archives: GK

भारतीय संविधान एवं राजव्यवस्था से सम्बंधित 127 महत्वपूर्ण प्रश्न व्याख्या सहित

भारतीय संविधान एवं राजव्यवस्था प्रश्न=01. भारतीय संविधान सभा का गठन का विचार 1934 में पहली बार किसने दिया?* (अ) जवाहर लाल नेहरू (ब) महात्मा गांधी (स) दादा भाई नौरोजी (द) एमएन रॉय 👉(द) *प्रश्न=02. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने पहली बार भारतीय संविधान के निर्माण के लिए आधिकारिक रूप से संविधान के गठन की मांग कब की?* (अ) 1938… Read More »

भारत में उद्योग और कारखानों से सम्बंधित 50+ महत्वपूर्ण प्रश्न व्याख्या सहित

**प्रश्न=01. भारत का कौन सा औद्योगिक संस्थान कोयला क्षेत्रों के निकट स्थित नहीं है ? (अ) बर्नपुर (ब) हीरापुर (स) विशाखापट्टनम (द) बोकारो 👉(स)✔ व्याख्या:- विशाखापट्टनम टट्टी क्षेत्र व्यापार की सुविधा केंद्र की स्थिति के पास स्थापित है *प्रश्न=02. भारत का सबसे बड़ा कारखानों कहां है जहां लगभग 20% इस्पात तैयार होता है?* (अ) टाटा आयरन एंड स्टील… Read More »

राजस्थान का एकीकरण Rajasthan Gk For RPSC Exam

जॉर्ज थॉमस ने सन् 1800 में राजस्थान को राजपूताना नाम दिया। जेम्स टॉड ने ‘एनल्स एण्ड एण्टीक्यूटिस ऑफ राजस्थान’ पुस्तक में सन् 1829 में राजपूताना को राजस्थान नामदिया।

Rajasthan ki aarthik suchkank – राजस्थान के आर्थिंक सूचकांक –

देष के कुल पशुधन में राजस्थान का हिस्सा 11.2 % हैं। राजस्थान की दूध उत्पादन में भागीदारी 10 % हैं। यह दूसरे स्थान पर हैं। दूध से बने उत्पादों में गुजरात पहले स्थान पर हैं। ऊन उत्पादन में राजस्थान पहले स्थान पर हैं ;41.6 %द्ध।

राजस्थान में पर्यटन उद्योग – Rajasthan Gk In Hindi For RPSC Exam

ट्रेवल्स इन वेर्स्टन इण्डिया नामक पुस्तक में राजस्थान की भौगोलिक, सांस्कृतिक विषेषताओं का चित्रण हैं। यह टॉडद्वारा लिखी गई हैं।- इण्डिन एन्टीक्यूरी:- टेसी टोरी की।

राजस्थान में सहाकरी संस्थाऐं – Rajasthan Gk In Hindi For Rpsc Exam

सन् 1993 में गंगापुर, गुलाबपुरा (दोनो भीलवाड़ा) व हनुमानगढ़ की सहाकरी मिलों को सम्मिलित कर स्पिनफेडबनाया गया। इसका कार्य रूई या कपास खरीदना एवं सूत बनाना व इसकी बिक्री करना हैं। यह बम्बई की सूती मिलों कोबिक्री करता हैं।-

राजस्थान में क्षेत्रीय विकास कार्यक्रम – Rajasthan Gk For RPSC Exam

क्षेत्रीय विकास कार्यक्रमसुखा संभावित क्षेत्र विकास कार्यक्रम:- यह सन् 1974-75 में शुरू किया गया। इसमें केन्द्र व राज्य सरकार की 50: 50 की भागीदारी हैं। इस योजना का मुख्य उद्देष्य सूखे की सम्भावना वाले क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था में सुधार करना हैं। मिट्टी व जल का संरक्षण करना हैं। जल संसाधनों का विकास करना हैं। वृक्षारोपण पर बल देना हैं। यह योजना वर्तमान में चल… Read More »